कैसे रखें नवजात शिशु (लड़का/लड़की) के जननांग की सफाई ?

अगर आप के घर में नवजात बच्चा है तो, आप को उसके स्वास्थ्य और उसके रख-रखाव का विशेष ध्यान रखना पड़ता है। लेकिन माँ को अपने बच्चे को लेकर एक अलग ही प्यार होता है, साथ ही डर भी की अपने बच्चे की देखभाल कैसे करे ? खासकर नहलाते समय उसके जननांग की सफाई को लेकर क्योंकि शिशु के गुप्तांग इतने नाजुक होते हैं की, उसके साफ-सफाई में आपको विशेष ध्यान रखना पड़ता है। चाहे वो लड़का हो या लड़की आपकी जरा सी लापरवाही उसे भरी नुक्सान पहुंचा सकता है। इसलिए बच्चे के साफ़-सफाई में कुछ बातों का ध्यान रखें :-

  •  बच्चों को नहलाते समय उसके गुप्तांगों को पानी से अच्छी तरह से धोयें। या फिर आप रुई के फाहे से भी अच्छी तरह से साफ़ कर सकते हैं।आप बेबी वाइप्स का भी इस्तमाल कर सकते हैं, क्योंकि वो भी रुई की तरह ही मुलायम होते हैं ।
  • शिशु को नहलाने के बाद उसके जननांग को सूती कपडे से आराम से पोछें या फिर बेबी वाइप्स का इस्तमाल करें। ध्यान रखें ज्यादा जोर से रगड़  पर गुप्तांग में रेड रेसेस पड़ सकते हैं और त्वचा छिल भी सकती है।
  • शुरूआती दिनों में बच्चे के नैपी वाले जगह को पानी से अच्छी तरह धोयें। संक्रमण से बचने के लिए पानी में डिटोल या सेवलोन की कुछ बूंदें भी डाल सकती हैं ।
  • दिन के समय बच्चे के नैपी को कई बार चेक करें और रात को भी बीच-बीच में नैपी बदलते रहें। अगर ज्यादा समय तक ऐसे ही रहा तो इस जगह संक्रमण होने का खतरा रहता है ।
  • अपने बच्चे के जननांग की सफाई के लिए गुनगुने पानी का यूज़ करें। सिंपल साबुन का इस्तमाल ना कर बेबी सोप ही इस्तमाल करें, क्योंकि कई साबुन उस जगह दाने के रूप में निशान छोड़ जाते हैं ।
  • अगर बेबी लड़का है तो उसके ऊपर के स्कीन को जबरदस्ती हटाने की कोशिश ना करें। वो 2-3 साल बाद अपने आप हट जाएगा। ये कभी-कभी जवानी तक भी रहता है ।
  • अगर धर्म के अनुसार बच्चे का खतना किया जाता है तो, नहलाते समय इसे अच्छे से साफ़ करें और इस जगह वेसलिन या सरसों का तेल लगायें। कटी हुई स्कीन को ठीक होने में 10-15 दिन का समय लग सकता है।
  • अगर बच्चा लड़की है तो शुरूआती कुछ दिनों में गुप्तांग पर हल्का खून भी आ सकता है और थोडा सुजा हुआ भी लगे, ऐसा इसलिए क्योंकि जब वो आप के पेट में थी तो, आप के सम्पर्क में थी। इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं है हाँ ,अगर ये सिलसिला 4-5 हफ्ते तक चलता रहे तो ये डरने वाली बात है, तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। 
  • लड़की शिशु का गुप्तांग साफ़ करते समय आगे से पीछे की तरफ करें क्योंकि ऐसा करने से मल वाले बेक्टीरिया आगे की तरफ नहीं आ पाते, जो की जननांग को ज्यादा नुक्सान पहुंचा सकते हैं ।
  • कोशिश करें की बच्चों को ज्यादा नैपी ना पहनायें, कुछ देर खुला भी रहने दें। जिससे हवा लगे वरना ये जगह लाल होकर सुजा हुआ भी लगता है ।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                    विशेष :-ध्यान रखें की लड़के के गुप्तांग के मुकाबले लड़की के गुप्तांग की सफाई का और सुरक्षा का ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है ।
News Reporter

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.