जाने कैंसर सम्बन्धी मिथ्य और सच !

दोस्तों कैंसर उन चन्द बिमारियों में से एक है जिसके कारण हर साल हजारों जाने जाती है, इसके बावजूद कैंसर पीड़ितों की संख्या बढती ही जा रही है,और ये हाल उन देशों का नहीं है जो अल्पविकसित हैं विकसित देश भी इससे अछूते नहीं हैं। विश्व के सभी देशों के लिए कैंसर एक बड़ी समस्या बन गयी है। इसलिए तो 4 फरवरी को वर्ल्ड कैंसर डे मनाया जाता है,और इससे बचने और इसके इलाज के बारे में जानकारी दी जाती है कुछ लोग इस बीमारी को अभी भी लाइलाज बीमारी मानते है क्योंकि उन्हें इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है,और इससे रिलेटिड कई सारे मिथ हैं जो समाज में फैले हैं जिस कारण कई लोग बेवजह तनाव में पड़ जाते हैं ,और उनके साथ- साथ परिजन भी परेशान रहते हैं। इस भयंकर बीमारी के बारे में जागरूकता भी एक प्रकार से इससे लड़ने के लिए अहम् है तो जानते हैं वो कोन -कोन से मिथ हैं जो समाज में फैले हुए हैं :-

1 .मिथ :-कैंसर छुआछुत से फैलता है । सच :-आमतौर से कैंसर छुआछुत से एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति में आसानी से नहीं फैलता है ।इसके बावजूद जब ऑर्गन ट्रांसप्लांट किया जाता है,  यदि डोनर को कभी भी कैंसर रहा हो ऐसी स्थिति में कैंसर एक इंसान से दुसरे में फैलने का खतरा हमेशा बना रहता है। और डॉक्टर भी ऐसे कैंसर के रिकॉर्ड वाले डोनर से पीछे हटते हैं, लेकिन इस स्थिति में भी रिस्क बहूत कम है। अध्ययन में पाया गया है की ये  10,000 लोगों में सिर्फ  2 केसों में ऐसा पाया गया है, कुछ केसों  में कैंसर वायरस और बेक्टीरिया से एक से दुसरे में आसानी से फैलते हैं।

2.मिथ :-मीठा ज्यादा खाने से कैंसर ज्यादा बढ़ता है ।                                                                        सच  :-लोग कहते हैं की कैंसर में मीठा ईंधन का काम करता है, और बढ़ता है लेकिन अभी तक हुए सैकड़ो रिसर्च में इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है की, मीठा खाने से कैंसर में अच्छा या बुरा प्रभाव पड़ता है ।कम खाने से कैंसर ख़तम हो जाता है और ज्यादा खाने से बढ़ता है।  लेकिन हाँ शरीर की कोशिकाओं को बढ़ने के लिए ग्लूकोस की आवश्यकता होती है जो मीठा खाने से मिलती है।

3.मिथ :-एक उम्र के बाद कैंसर का इलाज नामुमकिन है ।                                                                सच:-कैंसर ट्रीटमेंट के लिए उम्र की कोई सीमा नहीं होती ,बुजुर्गों का इलाज भी उसी तरह किया जाता है जिस तरह यंग लोगों का किया जाता है। हाँ कई बार ज्यादा उम्र के कारण कई लोगों में ब्लड प्रेशर और डायीबीटीज के चलते इलाज थोडा मुश्किल भरा हो सकता है और ट्रीटमेंट में थोड़ी समस्या आ सकती है।

  1. 4.मिथ:-मोबाइल फोन और रिमोट से कैंसर होता है ।                                                              सच:-ये एक मिथ है की मोबाइल फोन और रिमोट से कैंसर होता है,ये वो चीजें हैं जिनका उपयोग हम अपने रोजमर्रा की जिंदगी बहुत ज्यादा करते हैं। हालाँकि इस बात में सच्चाई बहुत कम है की इनके रेडिएशन के संपर्क में आने से कैंसर हो सकता है, हाँ मोबाइल और रिमोट से रेडिएशन होता है पर ये बहुत लो एनर्जी होता है। अभी तक कराये गए अध्ययन में ये कभी भी साबित नहीं हुआ की मोबाइल और रिमोट से कैंसर होता है।

5.मिथ:-क्या अगर मेरे परिवार में किसी को कैंसर नहीं है तो मुझे भी नहीं होगा ?                                 सच :-जी नहीं! इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की,परिवार में आपके परदादा तक को कैंसर नहीं है तो आपको भी नहीं होगा, बल्कि ये इस बात पर निर्भर करता है की आप कैसे वातावरण में रह रहे हैं ।कहीं आपके घर के पास कोई केमिकल फैक्ट्री तो नहीं,अगर आपकी उम्र ज्यादा है तो ये भी कैंसर का कारण हो सकता है।आप धुम्रपान करते हैं या धुम्रपान करने वालों के सम्पर्क में ज्यादा रहते हैं,क्या  खाते हैं ,कितना खाते हैं ,व्यायाम करते हैं या नहीं आदि पर निर्भर करता है।

6.मिथ:- अगर हम चाँद पर जा सकते हैं, तो सभी का कैंसर का इलाज भी हो सकता है।                         सच :-चाँद पर जाना कैंसर का इलाज करने से कहीं ज्यादा आसान है वास्तव में कैंसर एक बहुत बड़ा रोगों का समूह है। अलग- अलग लोगों को एक ही कैंसर होने के अलग -अलग कारण हो सकते हैं। इलाज संभव होने के बावजूद शोधकर्ता इस बात की शोध कर रहे हैं की,कुछ लोग उपचार के दौरान मर जाते हैं और कुछ लड़कर जीत जाते हैं, इसके आलावा कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो बीमारी के दौरान अलग अलग सेल्स बदलते रहते हैं ,जिससे इलाज मुश्किल हो जाता है।

7.मिथ:-सुपरफुड से कैंसर रुकता है ।                                                                                                सच :-जामुन ,ग्रीन टी,ब्रोकली आदि सुपरफुड हैं, और इनके सेवन से कैंसर नहीं होता है। ये कहकर कुछ लोग इन फलों को बेच रहे हैं, इसमें कोई वैज्ञानिक तथ्य नहीं है शोधकर्ताओं के अनुसार ऐसा कोई सुपरफ़ूड नहीं होता।

8.मिथ :-कैंसर हमेशा दर्द देता है ।                                                                                                    सच :-हालाँकि इसमें थोड़ी सच्चाई है की कैंसर दर्द देता है, पर हमेशा नहीं आजकल इलाज काफी उन्नत हो गया है। और इस प्रकार के दर्द को कम करने के लिए दवाएं दी जाती हैं ताकि दर्द कम हो और आपको अपने रोजमर्रा के कार्यों को करने में दिक्कत न आये।

9.मिथ :-देसी दवाइयों से कैंसर का इलाज संभव है ।                                                                          सच :-नहीं! ये सच नहीं है की जड़ी बूटियों के द्वारा कैंसर का इलाज संभव है। कीमोथेरेपी उपचार के दौरान  दवा के रूप में ये लिए जाने पर इलाज में दिक्कत आ सकती है ,अगर इन्हें इस्तमाल करना है तो कृपया डॉक्टर से राय जरूर लें।

 10.मिथ :-अगर मेरी फैमिली मे से किसी को कैंसर है तो मुझे भी होगा!                                              सच :-सिर्फ 5-10%मामलों में ही कैंसर जींस के कारण माता -पिता से बच्चों में हो सकता है ।बाकि 90-95% केसों में कैंसर लाइफस्टाइल ,रेडीऐशन के संपर्क में आने और तम्बाकू के इस्तेमाल से हो सकता है ऐसे कैंसर को फैमिलिय़र कहते हैं ।

                                                           इम्पोर्टेंट टिप्स

      तम्बाकू से बचें,हेल्दी खाना खाएं,फ़िल्टर पानी पियें ,वातावरण का ध्यान रखें, योगा करें आदि एहतियात बरत कर आप कैंसर के जोखिम को काफी हद  तक कम कर सकते हैं।

 

 

News Reporter

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.