दाँतो की देखभाल

दांत सुन्दर और आकर्षक लगे ये कौन नहीं चाहता ? बाज़ार में इतने सारे टूथपेस्ट हैं, और कई सारे आयुर्वेदिक मंजन भी मौजूद हैं। लेकिन फिर भी क्यों हमारे दांतों में कीड़े लगने और दर्द की समस्या बनी रहती है। अगर कुछ चीजों पर ध्यान देंगे तो ये समस्या उत्पन नहीं होगी !

                                         ब्रश करने का तरीका 

        कई लोग ब्रश करना बस एक खानापूर्ति समझते हैं, मगर ब्रश करते समय इन बातों का ध्यान रखें :-

  • टूथब्रश हमेशा नरम लें, हार्ड ब्रश दांतों की चमक छीन लेता है। और मसूड़ों को भी छिल देता है।
    अगर ब्रश सॉफ्ट नहीं है, तो उसे कुछ देर गर्म पानी में डुबोकर रखें।

  • अगर आपके दांतों में ठंडा या गर्म पानी लगने से दर्द महसूस होता है, तो डॉक्टर से मिलें और बताये गए टूथपेस्ट का ही इस्तमाल करें।

  • ब्रश को दायें से बायें, ऊपर से निचे और पीछे के दांतों पर भी चलायें,जो की खाना चबाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। और खाने के कण भी यहीं पर सबसे ज्यादा चिपकते हैं।

  • दिन में 2 बार सुबह और रात को खाना खाने के ब्रश जरूर करें। टूथ पेस्ट कोई भी इस्तमाल करें, लगभग सारे टूथपेस्ट मुहँ की बदबू और बेक्टीरिया निकालते हैं। इसलिए मुहँ में झाग होने पर तुरंत ना थूकें, कुछ देर बाद थूकें ।

                                                 दांतों में बदबू आने पर 

दांतों में बदबू आने का कारण, उसमे फंसी खाने के सड़ांध से ही नहीं बल्कि दांतों में जमी गंदगी और पायरिया के कारण भी हो सकता है। कई बार बदबू का कारण पेट की गैस भी हो सकती है । मुंह खोला और सामने वाला बदबू महसूस करता है। अगर दांतों में बदबू है तो अनदेखा ना कर तुरंत डॉक्टर से मिलें।

                                                  दांत हिलते हों तो 

अगर दांत हिलते हों तो डेंटिस्ट से जरूर मिलें। अपने मन से पेन किलर ना लें, हो सकता है दांतों में कीड़े लगे हो, या उनकी जडें कमजोर हों। क्यों की कीड़े लगे दांतों के बेक्टीरिया दिल, फेफड़ा और दिमाग में पहुँच कर उसे बीमार बना देते हैं

News Reporter

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.