निसंतान दम्पतियों के लिए माँ बनने का एक अच्छा विकल्प है सरोगेसी मदर

जब एक लड़की की शादी होती है तो उसके ससुराल वाले बातों-बातों में ही इस बात को जाहिर कर देते हैं की, वे जल्द ही एक बच्चा चाहते हैं। लड़के के माता-पिता भी जल्द से जल्द दादा-दादी बनने की ख्वाहिश जाहिर करते हैं। माँ बनना हर महिला के जिन्दगी सबसे खुशनुमा अहसास होता है। जब बच्चा उसे माँ बोलता है तो ऐसा लगता है मानो सारे जहाँ की खुशियाँ उसे मिल गयी है, लेकिन जब विवाहित जोड़े को ये पता लगता है की वे कभी भी माँ-बाप नहीं बन सकते। चाहे वो गर्भाशय में प्रोब्लेम्स हो या और किसी वजह से, तो मानो उनकी सारी खुशियाँ,घरवालों की उम्मीदें सब धरी का धरी रह जाता हैं तब ऐसे में सरोगेसी मदर एक बेहतर चिकित्सा विकल्प है।

 

क्या है सेरोगेसी मदर

सरोगेसी मदर एक ऐसी आधुनिक चिकित्सा विकल्प हैं, जहाँ ऐसे कपल्स जो बच्चे के सुख से वंचित रहते हैं। दुसरे महिला की सहायता से माता-पिता बन सकते हैं। वो भी उस महिला की मर्जी से और उस महिला को इसमें कोई आपत्ति भी नहीं होती।  सरोगेसी 2 प्रकार की होती है

  1. ट्रेडिशनल सरोगेसी :-इस विधि में बच्चे के पिता के शुक्राणु को सरोगेट मदर के अंडाणु से मिलाया जाता है और वो डॉक्टर की देखरेख में बच्चे को जन्म देती है। इसमें बच्चे का जैनटिक सम्बन्ध सिर्फ उसके पिता का ही होता है।
  2. जेस्टेशनल सरोगेसी :-इस चिकित्सा पद्धति में माता और पिता दोनो के अंडाणु और शुक्राणु को परखनली में मिलाकर सरोगेसी मदर के गर्भाशय में डाला जाता है। इसमें बच्चे का जैनटिक सम्बन्ध माता और पिता दोनों से ही होता है। वो महिला जबतक प्रेग्नेंट रहती है, उसे दवाई खानी पड़ती है। ताकि जब तक वो प्रेग्नेंट हो उसके अपने अंडाणु ना बने और ना ही उनके स्तन में दूध भर सके।

 

दरअसल उस दम्पति और महिला के बीच कॉन्ट्रैक्ट होता है की, महिला उन्हें बच्चा देगी और बदले में दम्पति उन्हें पैसे देते हैं। कई बार तो ये रकम कई लाखों में होती है और महिला जब तक प्रेग्नेंट है, उसका सारा खर्चा और देखभाल उक्त दम्पति को ही उठाना पड़ता है।

सरोगेसी मदर बनने वाली महिलाएं वे होती हैं जिनका पहले से ही कोई बच्चा हो ताकि उसे दोबारा माँ बनने में आसानी हो । बच्चे के लिए उसे कोई लगाव ना हो।

 

बड़े शहरों में है इसका ज्यादा चलन

छोटे शहरों की अपेक्षा महानगरों में सरोगेसी मदर ज्यादा प्रचलित है क्योंकि:-

  • जो महिलाएं कैरियर के लिए अति महत्वाकांक्षी होती हैं, वे बच्चे के लिए लीव लेकर इस रेस में पीछे नहीं रहना चाहती।
  • मॉडल या एक्ट्रेस ये अपनी बॉडी को फिट रखने के लिए माँ बनने से कतराती हैं क्योंकि माँ बनने के बाद शरीर में बदलाव तो होता ही है और बिना फिट रहे इनका कैरियर चल नहीं पायेगा।
  • कई महिलाएं ऐसी भी हैं जो इस प्रेगनेंसी में होने वाले दर्द से दूर भागती हैं, इनके लिए सरोगेसी मदर ही एक अच्छा विकल्प होता है।

 

सरोगेसी अपनाए लेकिन सावधानी से 

सरोगेसी विकल्प अपनाने से पहले ये जाँच ले की जिस अस्पताल में आप ये करवाने जा रहे हैं वो कहीं फ्रोड तो नहीं है, क्यों की कई हॉस्पिटल ऐसी होती हैं जो मान्यता प्राप्त नहीं होती और बाद में आप कानूनी झंझट में पड़ सकते हैं। कई बार बच्चे पैदा करने वाली महिला का अपने बच्चे के प्रति लगाव कम नहीं होता और वो बच्चा देने में आनाकानी कर सकती हैं। इसलिए इस चिकित्सा विधि से पहले सारे कानूनी और जरुरी कारवाही पूरी कर लें। अपने वकील से इस बारे में बात करें।

 चूँकि ये प्रक्रिया जटिल है इसलिए ये कोई झोला छाप से ना कराकर एक्सपर्ट से ही करायें !

 

 

News Reporter

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.