ब्रेस्ट कैंसर होने के कारण !

क्या आप जानते हैं महिलाओं की मौत का दुसरा सबसे बड़ा कारण ब्रेस्ट कैंसर है। ऐसा नहीं है की ब्रेस्ट कैंसर सिर्फ महिलाओं को होता है, ये पुरुषों को भी होता है। लेकिन इसके बहुत कम मामले हैं। ब्रेस्ट कैंसर का इलाज हो सकता है, लेकिन सही टाइम पर इसे पहचानकर, इसका इलाज किया गया तो अगर ये समय पूरा हो गया तो फिर इलाज मुश्किल हो सकता है ।तो आइये जानें इसके होने के कारण :-

  • उम्र :-एक उम्र तक इसके होने के बहुत कम चांसेस होते हैं, लेकिन जैसे-जैसे महिलाओं की उम्र बढती है। उनके ब्रेस्ट कैंसर की चपेट में आने की सम्भावना भी बढ़ जाती है। 45 से ऊपर की महिलाओं में इसके होने की ज्यादा सम्भावना होती है ।
  • माहवारी :-वे महिलाएं जिनका रजोनिवृति(55) हो चूका है, उन्हें इसका खतरा अधिक होता है ।
  • पारिवारिक हिस्ट्री :-जिन महिलाओं के परिवार मे से पहले ही किसी को ये बिमारी हो चुका है, उन महिलाओं को ये बिमारी हो सकती है।
  • व्यक्तिगत इतिहास :- जिन महिलाओं को पहले किसी ब्रेस्ट में कैंसर हो चुका है भले ही अब ठीक है, उन्हें भी दुसरे स्तन में कैंसर होने की सम्भावना है ।
  • शराब :-जो महिलाएं शराब का सेवन करती हैं, उन्हें भी इस रोग का खतरा बढ़ जाता है ।
  • गर्भनिरोधक गोलियां :-ऐसे औरतें जो 10-12 साल तक गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करती हैं, उन्हें स्तन कैंसर होने की सम्भावना बढ़ जाती है ।
  • मासिक धर्म :-ऐसा भी देखा गया है की अगर मासिक धर्म समय से पहले या समय से बाद में आये तो स्तन कैंसर होने का खतरा होता है ।
  • बड़ी उम्र में माँ बनना :-रिसर्च में ऐसा देखा गया है की जो महिलाएं 30 से ज्यादा उम्र में माँ बनती हैं या पहला बच्चा होता है। उनमे ब्रेस्ट कैंसर होने की ज्यादा सम्भावनाएं हैं ।

                                                        स्तन कैंसर के लक्षण

  •  ब्रेस्ट कैंसर में स्तनों में गांठ,भारीपन और दर्द होता है और आपके दोनों स्तनों में फर्क भी दिख सकता है।
  • अगर महिला को शक है की उसके स्तन में गांठ बन रही है तो देर बिलकुल भी ना कर इनकी मेमोग्राफी कराएं।
  • स्तन कैंसर में स्तन के निप्पल की त्वचा लालिमा होने या इसका छिलका उतरने लगता है। इसके अलावा स्तन अन्दर की तरफ घुसने की तरह प्रतीत होता है।
  • स्तन में से खून या द्रव निकलने पर भी लापरवाही ना करें, ये शायद स्तन कैंसर हो सकता है।
  • स्तन के बगल में सुजन होना भी स्तन कैंसर के लक्षण हैं ।
  • 35 से ऊपर की महिलाओं को सलाह दी जाती है की हर 2 साल में अपना मेमोग्राफी जरुर कराएं। इसमें स्तन की हर छोटी से छोटी गांठ का पता चल जाता है और ये ज्यादा महंगा भी नहीं है ।
  • कई बार महिलाएं स्तन कैंसर के लक्षणों का पता ना होने या शर्म की वजह से इसे नजरअंदाज कर देती हैं, जिसका परिणाम बाद में भुगतना पड़ता है।
  • आप हर हफ्ते अपने स्तनों को छूकर देखें की कहीं उनमे कोई गांठ तो नहीं है, चाहे छोटी ही क्यों ना हो क्योंकि आप से बेहतर आपके  शरीर को और कौन जान सकता है अगर जरासा भी शक है तो तुरंत डॉक्टर से मिलें ।
News Reporter

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.