सास-बहू के रिश्ते को इस तरह बनाएं मजबूत

सास-बहू का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता है, जहां प्यार और तकरार दोनों होता है। लेकिन ऐसे कम ही घर होंगे जहां पर सास-बहु में तकरार ना होता हो। शादी के बाद लड़कियों सोचती हैं कि हमारे ससुराल वाले हमें खुले दिल से स्वीकार करेंगे और अपनी बेटी की तरह समझेंगे, लेकिन ऐसा बहुत कम होता है। लड़कियां नए ससुराल से बहुत ज्यादा अपेक्षा ना रखें। लड़के की मां भी बहू के बारे में बहुत ज्यादा जानती नहीं है।इसलिए वह भी उसे स्वीकार नहीं कर पाती है।ना तो बहू सास के बारे में बहुत कुछ जानती है,की उसकी आदत कैसे हैं, वह कैसे रहना पसंद करती है। खाने में क्या पसंद है।

इसलिए दोनों अपने मन की करते हैं। यही वह वजह है जो सास-बहू के बीच टकराव का कारण बनता है। लेकिन किसी भी रिश्ते को अच्छा बनाने के लिए जरूरी है कि प्रयास दोनों तरफ से किए जाएं, तभी एक रिश्ता स्वस्थ और मजबूत बनेगा।  लेकिन ऐसा भी नहीं है कि हर घर में सास और बहू के बीच में हमेशा झगड़े हों।लेकिन बहुत से आदर्श परिवार हैं।सास ससुर ऐसे हैं जिनके साथ आप रह नहीं सकते हैं और जिनके बिना भी आप रह नहीं सकते। खुशनसीब होते हैं वो जिनके पास ये रिश्ता होता है। अगर कोई मुसीबत आ जाए तो सास उसके आगे मजबूत दीवार की तरह खड़ी होती है। इसलिए जरूरी है कि सास और बहू के रिश्ते को एक प्यार का रिश्ता बनाया जाए।इन बातों का ध्यान रखेंगे तो यह रिश्ता हमें ससुराल में खुशहाली के साथ स्थायित्व और सम्मान भी प्रदान करेगा।

ये भी जाने :-शक !जाने-अनजाने विश्वास की बुनियाद हिल जाती है

सास का सम्मान करें

बहू को ससुराल में पहले दिन से ही सब को सम्मान देना चाहिए, खासकर सास को क्योंकि एक वही वो कुंजी है, जिन्हें आप जरा सा प्यार और सम्मान देकर परिवार केऔर करीब जा सकती हैं।और घर के वातावरण को खुशहाल बना सकते हैं। इससे आपके सास के दिल में आपके लिए प्यार बढ़ेगा और आप एक अच्छी बहू बन सकती हैं। ऐसे में सास भी आपका सम्मान करेगी,इससे आपके और सास के बीच में एक मजबूत और मधुर रिश्ता कायम होगा। आप परिवार वालों के दिलों में जल्द से जल्द अपनी जगह बना पाएंगे।

 

सास को स्पेशल फील करवाएं

बहू को अपने और सास के रिश्ते को मजबूत बनाए रखने के लिए जी जरूर है कि बहू, सास की फीलिंग्स को समझे और उनके खास दिनों को भी ध्यान रखे। जैसे आप अपना बर्थडे, शादी की सालगिरह आदि याद रखते हैं, ऐसे ही सास की भी बर्थडे, उनकी मैरिज एनिवर्सरी पर उनको कोई प्यारा सा गिफ्ट दें और उन को स्पेशल फील करवाएं  जैसे आप अपने माँ को करते हैं। आप उनके खास दिन पर उनके साथ बाहर शॉपिंग के लिए जा सकती हैं। या कोई अच्छी सी मूवी उनके साथ एन्जॉय कर सकते हैं। इससे सास को भी आप को समझने का मौका मिलेगा, सास और बहू के रिश्ते में बॉन्डिंग पहले की अपेक्षा ज्यादा मजबूत हो जाएगी और आप उनके दिल के और करीब आ जाएंगे।

ये भी जाने :-जाने आपकी पत्नी आपको धोखा दे रही है या नहीं

नोक-झोंक में बोलने से पहले सोचें

ऐसा नहीं है कि आदर्श सास-,बहू के घर झगड़ा नहीं होता उनमें भी छोटे-मोटे झगड़े होते हैं, लेकिन वह अपने इस झगड़े को ज्यादा बड़ा ना बनाकर आपस में ही मुसले सुलझा लेते हैं। इसलिए अगर आपका भी आपके सास के साथ कोई ऐसी बहस हो गयी हो या, उनकी कोई ऐसी बात जो आपको पसंद ना आए, तो उन्हें प्यार से समझाएं। अगर फिर भी आप के बीच बहस हो जाए तो गुस्से में कोई ऐसी बात ना बोलें, जिसको लेकर आपको बाद में पछताना पड़े।इससे आप सास के दिल से दूर होते जाएंगे। सास के ऊपर हाथ तो बिल्कुल ना उठाएं। कई बहुएं गुस्से में मारपीट तक उतर आती हैं, यह गलत है। अगर आपका व्यवहार यही रहेगा तो आपका सास के साथ बैठना तो दूर, उनसे नजर भी नहीं मिला पाएंगे। और हो सकता कि आपके पति और ससुर भी आप पर गुस्सा करें। आपके मायके में अगर कोई गलती हो जाती थी, तो क्या आपकी मां आपको डांटती नहीं थी। फिर अगर आपकी सास ने कुछ कह दिया तो आप उनसे झगड़े पर उतर आएंगे। सास को भी मां का एक रूप समझें।  गलती हो जाए तो उन्हें सॉरी कह कर,दुबारार ऐसी गलती ना दोहराएं तभी आप सास के दिल में और ससुराल वालों के दिल में होने लिए जगह बना पाएंगे। सॉरी बोलने से कोई छोटा नहीं होता।

ये भी जाने :-महिलाएं क्यों देती हैं अपने पार्टनर को धोखा

सास के साथ समय बिताएं

अगर आप वर्किंग वूमेन हैं और ऑफिस से आने पर थक जाते हैं तब भी ,ऑफिस से आने के बाद 5 या 10 मिनट का समय निकालकर सास  के साथ जरूर बैठें।उनके साथ ऑफिस के कुछ फनी किस्से  और घर के हाल-चाल के बारे में और अन्य बातें कर सकते हैं, जैसे आज उन्होंने दिनभर क्या किया और पड़ोसियों से क्या बात हुई या आज खाने में क्या बनाना है। उनके साथ बैठकर यह सब डिस्कस करें। इससे आपके और सास के बीच दोस्ती वाला और मजबूत रिश्ता कायम होगा। यह शाम के 10 मिनट देकर आप रिश्ते को और मजबूत बना सकते हैं।इससे सास को भी लगेगा कि आप अपने करियर या पति और बच्चे तक सीमित नहीं हैं, उन्हें भी बराबर सम्मान देइत हैं। समय-समय पर उनसे राय भी लेते रहें।

ये भी जाने :-निसंतान दम्पतियों के लिए माँ बनने का एक अच्छा विकल्प है सरोगेसी मदर

पति को अपने कब्जे में लेना 

कई बहुएं ससुराल में आते ही सब से पहला काम करती हैं, पति को अपने कब्जे में लेती हैं, ताकि पति और सास के बीच दूरियां बनी रहे। और  वह बीच में से अपना मतलब निकाल लें। अगर आप का भी यही रवैया है तो, आप कभी भी अपने सास के दिल में जगह नहीं बना पाएंगे और ना ही उनके दिल में अपने लिए सम्मान पैदा कर पाएंगे।

 

रिश्तों को सम्मान दें

सास और बहू के रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए दोनों तरफ से सामान कोशिश होनी चाहिए। सास बहू को जरा-जरा सी बातों के लिए टोका -टाकी ना करे।  उसे यह समझना होगा कि बहू आजकल के जमाने की है। इसलिए अगर उससे ऐसी कोई गलती हो गयी है तो उसे एक दम एकदम ना डाटें। उसे प्यार से समझाएं, ताकि वह दोबारा ऐसी गलती ना करे। बहू को भी हर काम सास की सलाह लेकर ही करना चाहिए क्योंकि घर की बड़ी होने की वजह से उन्हें भी लगेगा कि आप हर काम उनसे पूछ कर करती हैं।  बहू को यह समझना चाहिए कि सास पुराने ख्यालों की है, तो वह अपने हिसाब से अपना काम करेंगे। यह ना भूले उम्र में बड़ी है तो, जीवन के प्रति उनके अनुभव भी आपसे ज्यादा है। इसलिए इस रिश्ते में सम्मान जरूरी है।

 ये भी जाने :-देर का विवाह मजा या सजा !

News Reporter

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.