हार्ट फेल होने का कारण हो सकता हैआपकी लापरवाही

 

हार्ट फेल का मतलब यह नहीं है कि हार्ट ने काम करना बंद कर दिया है, इसका मतलब यह है कि दिल काम तो करता है लेकिन सामान्य अवस्था से कम काम करता है। यह तब होता है जब हार्ट की मांसपेशियां रक्त को पंप करना कम कर देती हैं, जैसा वह सामान्य अवस्था में करता है। हर साल लगभग 7  लाख से ज्यादा लोगों को हार्ट फेल की शिकायत रहती है। 60 वर्ष से ऊपर वाले लोगों में हार्ट फेल की शिकायत पाया जाना आम बात है। हमारा दिल 1 दिन में लगभग 100000 बार धड़कता है और पूरे जीवन में कई लाख लीटर खून को पंप करता है। हार्ट अटैक आमतौर पर ऑक्सीजन की कमी के कारण होता है। दिल शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन और पोषक तत्व को पंप नहीं कर सकता। जिस कारण हार्ट फेल हो सकता है। नतीजा खून धीमी गति से होते हुए शरीर से गुजरता है जिससे हार्ट में दबाव पड़ता है और हार्ट फेल या हार्ट अटैक का कारण बनता है।

इसे भी पढ़ें:-डिमेंशिया क्या है 

हार्ट फेल होने का कारण

हार्ट फेल होने के कई कारण हो सकते हैं। आजकल भागदौड़ भरी जिंदगी में हम पैसे कमाने और आगे बढ़ने की चाह में अपने जीवन शैली का स्तर इतना नीचे गिरा चुके हैं कि,अपने खान-पान का सही तरह से ध्यान नहीं रख पाते। नियमित व्यायाम करना, अपने आहार से सोडियम की मात्रा को कम करना, तनाव ज्यादा ना करना, अपने वजन पर कंट्रोल बनाए रखना आदि कुछ ऐसे चीजें हैं, जिन पर हमें ध्यान देने की जरूरत है। जिससे हम अपने हार्ट को स्वस्थ रख सकते हैं और हादसे से बचे रह सकते हैं। हम अपने दिनचर्या और रोजमर्रा के आदतों में थोड़ा सा बदलाव कर अपने हार्ट को स्वस्थ बनाये रख सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:-गर्मी के मौसम में हार्ट के मरीज इन बातों का ध्यान रखें वार्ना बहुत पछतायें 

  •  हाई बीपी में हार्ट को पूरे शरीर में खून पहुंचाने के लिए सामान्य अवस्था से ज्यादा मेहनत करना पड़ता है और जब दिल सामान्य से ज्यादा मेहनत करेगा तो जाहिर सी बात है इसका असर दिल की मांसपेशियों पर भी पड़ेगा। ये दिल को कमजोर कर सकता है,अगर ऐसे ही लंबे समय तक चलता रहे तो, यह हार्ट फेल होने का एक बड़ा कारण बन सकता है।
  • कार्डियोमायोपैथी यह दिल से संबंधित एक बीमारी है। यह बीमारी दिल की मांसपेशियों को कमजोर और बड़ा कर देती है। इस बीमारी में हार्ट में ब्लड सर्कुलेशन होने में दिक्कत आती है, जिस कारण हमें सांस लेने में भी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। जो हार्ट फेल होने का एक कारण है।
  • विटामिन ‘डी’ के कारण भी हार्ट फेल की समस्या होती है। विटामिन ‘डी’ का मुख्य स्त्रोत सूर्य की किरणे हैं। विटामिन ‘डी’ की कमी से हार्ट की कोशिकाओं में वसा अम्ल से ऊर्जा उत्पादकों का उपयोग बुरी तरह प्रभावित होता है, इससे हार्ट संबंधी विकार हो सकते हैं। विटामिन ‘डी’ की कमी से हार्ट की दीवार की मोटाई बढ़ जाती है, जिस कारण हार्ट फेल होने की समस्या देखी जाती है।
  • कोरोनरी धमनी यह दिल की एक बीमारी है। यह धमनियों का एक रोग है। धमनियां हार्ट को रक्त और ऑक्सीजन की आपूर्ति करते हैं । कोरोनरी धमनी रोग हार्ट की मांसपेशियों में खून की कमी के कारण हो सकता है। दिल का दौरा तब पड़ता है जब धमनी में अचानक अवरोध उत्पन्न हो जाए, जिससे हार्ट की मांसपेशियों में ब्लड रुक-रुक कर जाता है। यह स्थिति दिल का दौरा और और हार्ट फेल होने का कारण बनता है।
  •  ज्यादा धूम्रपान के कारण धमनियों में ऐठन जैसे समस्या हो सकता है। धमनियों में ऐंठन से हार्ट में रक्त संचार की समस्या उत्पन्न हो जाती है। जिसके कारण सीने में दर्द और परेशानी का सामना करना पड़ता है, जो कि हार्ट अटैक और हार्ट फेल होने का एक कारण बनता है। हार्ट को मजबूत बनाते रखने के लिए खाने में पौष्टिक आहार, नियमित एक्सरसाइज, योगा आदि कीजिए ताकि हार्ट हेल्दी और स्वस्थ रहे।
  •  धूम्रपान के कारण हार्ट को हर दिन बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। धूम्रपान के कारण हार्ट को खून पंप करने के लिए सामान्य से अधिक गति में काम करना पड़ता है।धूम्रपान हार्ट को पंप करने की गति में अवरोध उत्पन्न करते हैं, जिस कारण हार्ट को समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। जितनी जल्दी हो सके धूम्रपान से दूरी बना लें।
  • मोटापा डायबिटीज और अनुवांशिकी के कारण भी हार्ट संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए अपने हार्ट को हेल्दी रखने के लिए हर संभव प्रयास करने चाहिए। सबसे पहले अपने खान-पान और नियमित दिनचर्या पर ध्यान रखें। हमारा दिनचर्या जितना बेहतर होगा हमारा हार्ट  उतना ही बेहतर काम करेगा। हम एक लंबी जिंदगी जीने की कामना कर सकते हैं। अपने खाने में जितना हो सके और ऑयली और कैफीन की मात्रा कम करें।
News Reporter

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.